November 20, 2008

राहुल महाजन-ये कैसा हीरो..!!!



आज सुबह रूटीन में आजतक चैनल देख रहा था। उसमें राहुल महाजन (प्रमोद महाजन का लड़का) का इंटरव्यू दिखाया जा रहा था। साथ में उसकी माँ भी बैठी हुई थीं। इंटरव्यू का विषय था कि बिग बॉस नामक एक फर्जी सीरियल को उसने टाटा कह दिया है और अपने घर वापस लौट आया है। राहुल का कहना था कि बिग बॉस के घर में वो अध्यात्म और पूजा-पाठ की बात किया करता था, इसलिए उसे वहाँ पसंद नहीं किया जा रहा था। उसके खिलाफ वहाँ पॉलिटिक्स की जा रही थी। इससे आजिज होकर उसने बिग बॉस के घर को छोड़ना ही उचित समझा। राहुल ये भी कह रहा था कि उसे देश में असली पहचान इसी सीरियल बिग बॉस के कारण ही मिली है।

दोस्तों, मैं इस साक्षात्कार को बड़े ध्यान से देख रहा था। इसलिए नहीं कि यह मुझे पसंद आ रहा था, इसलिए कि मैं मक्कार लोगों के तमाम प्रकार के चेहरे देखने का शौकीन हूँ। मैं ये भी देखना पसंद करता हूँ कि कोई कितनी सफाई या बेशर्मी से झूठ बोल सकता है। और ये भी देखता हूँ कि आजकल इंसान अपनी आत्मा कितनी सस्ते में बेच देता है। दोस्तों, इस राहुल महाजन को हमारे देश का दुर्भाग्यपूर्ण मीडिया और आजतक जैसा भ्रष्ट चैनल हीरो बना रहा है। शर्म है इन पर। ये वही राहुल महाजन है जो अपने बाप (प्रमोद महाजन) के मरने के चंद घंटों बाद ही कोकीन लेते पकड़ा गया था। वो इतना बड़ा मामला था कि पूरे देश ने उसको देखा। इस लड़के के साथ कोकीन पीने वाला एक व्यक्ति (जो प्रमोद महाजन का पीए भी था) तो हाल ही मर गया था जबकि ये मेडिकल आईसीयू में भर्ती रहा था। इस घटना से पहले भाजपा राहुल को पार्टी में लाना चाहती थी लेकिन इसके कलुषित चेहरे को देखकर भाजपा ने भी इससे पल्ला झाड़ लिया और राहुल की बहन को पार्टी में आने का मौका दिया। उसके बाद राहुल महाजन एक बार फिर टीवी के पर्दे पर दिखाई दिया। इस बार अपनी प्रेमिका के साथ, जिसके साथ बाद में इसने शादी भी रचाई। फिर कुछ महीनों बाद ये मक्कार लड़का टीवी पर दिखाई दिया। इस बार उसकी बीवी भी साथ थी और अपने कोमल शरीर पर चोटों के निशान दिखा रही थी जो इसी राहुल ने उसे दिए थे। बाद में दोनों के तलाक की खबर आई। ये चरित्रहीन लड़का एक बार फिर बिग बॉस के जरिए टीवी पर दिखाई दिया। इस बार ये हिन्दी फिल्मों की सी ग्रेड अभिनेत्री पायल रोहतागी के साथ इश्क लड़ा रहा था। उसके साथ अंतरंग पलों को जी रहा था। इस घटिया लव स्टोरी के ऊपर आजतक जैसे भ्रष्ट चैनलों ने दर्शकों के कई महत्वपूर्ण घंटे बर्बाद किए। बाद में पायल बिग बॉस से विदा हो गईं। इसके बाद इस घटिया लड़के ने अपनी अश्लील हरकतें एक दूसरी चरित्रहीन लड़की मोनिका बेदी के साथ करनी शुरू कर दीं। ये वही मोनिका बेदी है जो भारत के दुश्मन उस डॉन अबु सलेम की बीवी बनकर उसके साथ ८ साल रही और उस सलेम ने उसके साथ आज ही अपनी शादी की वर्षगाँठ मनाई है। हालांकि मोनिका का कहना है कि वो सलेम की बीवी नहीं थी (मतलब रखैल बनकर रही थी) लेकिन इन दोनों (राहुल-मोनिका) ने भी खूब नैनमटक्का किया। टीवी पर चल रहीं इनकी खबरों से बेचारा सलेम जेल के अंदर आहत होता रहा। (हालांकि मैं स्पष्ट रूप से मानता हूँ कि ये सीरियल की टीआरपी बढ़ाने के स्टंट हैं और न्यूज चैनलों को इन घटिया खबरों को परोसने के लिए रुपए मिलते हैं। लेकिन मैं फिर भी आशा करता हूँ कि इस प्रकार की खबरें टीवी पर नहीं चलाई जानी चाहिए। खैर, मेरे चाहने या ना चाहने से क्या होता है॥??)

तो दोस्तों, इस चरित्रहीन, बदमाश और भगोड़े को बिग बॉस सीरियल से इसलिए बाहर होना पड़ा क्योंकि ये वहाँ अध्यात्म और पूजा-पाठ की बातें कर रहा था। बहुत अच्छे....इस बात पर किसका विश्वास होगा बताइए भला॥??ये हमारे देश का कैसा हीरो है जो टीवी पर छाया हुआ है और इसकी गलत बातों में उसकी माँ भी बगल में बैठकर उसका साथ दे रही है। अब समझ आ रहा है कि इस बेटे को बिगड़ैल तो उसकी माँ ने ही बनाया है। ना वो अपने पति को बिगड़ने से रोक सकी और ना ही अपने बेटे को....!!!हमें अपने देश के युवाओं के लिए ऐसे हीरो नहीं चाहिए.....टीवी चैनल वाले सुन रहे हैं.....कि वे हमारे देश के युवाओं के सामने कैसा आदर्श रख रहे हैं......??????

आपका ही सचिन...।

6 comments:

कविता वाचक्नवी said...

अच्छा लिखा है,सचिन! यह जज्बा बना रहे।
खूब लिखो, अच्छा लिखो, निरन्तर लिखो।
धार बनी रहे। शुभकामनाएँ।

mehek said...

heebahut sahi likha hai,ye chanel wale ani khabarein dikhane kuch bhi dekhate hai aur hum jaise murakh log dekhte bhi hai,rahul to besharmi ka namuna hai,ab dekhna agle election neta bankar bhi aajayega aur aise log bharat desh ko sambhalenge,paiso ki maya ajeeb hoti hai.

Suresh Chiplunkar said...

आजकल ऐसे ही "हीरो" चारों तरफ़ छाये हुए हैं… हमारे मीडिया की वजह से जिसे सिर्फ़ नकारात्मक बातें दिखाना ही आता है…

rafik visaal said...

राहुल महाजन को हीरो कहना सिर्फ़ दिमागी दिवालियेपन की एक बदतरीन मिसाल है .ऐसी मिसालों को कोंपलें फूटने से पहले ही दफन कर देना चाहिए .rafik visaal

आलोक सिंह "साहिल" said...

bhai ji,aapki khari baatein mast kar gayin.
ek taklif hai aapke blog par,kambakht comment post karne ke pahle,lal,hare,neele colour ke letters type karne padte hain,apne pathkon ko usse nijat dilayein.
ALOK SINGH "SAHIL"

sachin said...

दोस्तों, आप लोगों की ब्लॉगस्पाट वाली दुनिया में पहली बार ही कदम रखा है। इससे पूर्व पिछले एक वर्ष से ब्लॉगिंग की दुनिया में सक्रिय था लेकिन शायद आप लोगों का साथ यहीं लिखा था, सो मिल रहा है। मेरे दूसरे ब्लॉग पर भी आकर मेरा उत्साह बढ़ाएँ और हमेशा अपने साथ जोड़े रखें। मेरे इस ब्लॉग की लिंक है www.sachinsharma5.mywedunia.com
आलोक जी आपकी बात को मैं पूरा कर दूँगा, फिलहाल तो ब्लॉगस्पॉट को समझने की कवायद जारी है। ये नीली-पीली बत्तियों के बारे में तो फिलहाल मुझे भी नहीं पता लेकिन जल्दी ये आपके और हमारे बीच से हट जाएँगीं। रफीक जी को विशेष धन्यवाद जो मेरे अभिन्न मित्र भी हैं।